रामदास कविता व्याख्या सहित रघुवीर सहाय | Ramdas kavita vyakhya sahit

  रामदास कविता व्याख्या सहित रघुवीर सहाय | रघुवीर सहाय वरिष्ठ पत्रकार के साथ – साथ दूसरे तार – सप्तक के कवि थे सहाय ने अपनी रचना में एक साधारण आजम आदमी को भागिदार बनाया है। सामाजिक , न्यायिक व्यवस्ता के विरुद्ध मानवीय संवेदना को प्रकट कर व्यवस्ता के खोखलेपन को…

बादलों को घिरते देखा है कविता और उसकी पूरी व्याख्या | baadlon ko ghirte dekha

बादलों को घिरते देखा कविता और उसकी पूरी व्याख्या    badlon ko ghirte dekha hai नागार्जुन   नागार्जुन का पूरा नाम वैद्यनाथ मिश्र ‘ यात्री ‘  है। उनका जन्म सन 1911 में बिहार प्रांत के दरभंगा जिले के तरौनी नामक गांव में हुआ।  उनकी प्रारंभिक शिक्षा परंपरागत रूप से संस्कृत…