हिंदी नाटक साहित्य की विकास यात्रा Hindi natak sahitya

हिंदी नाटक साहित्य Hindi natak sahitya notes for students in hindi in detail.

हिंदी नाटक साहित्य की विकास यात्रा

 

  • भारत में ईसा से लगभग 400 वर्ष नाट्य साहित्य निर्माण का प्रारंभ हुआ , उसके बाद संस्कृत नाटकों की एक सुदृढ़ और समृद्ध परंपरा चली।
  • भास , कालिदास , भवभूति , अवघोष ,  विशाख ने कालजई नाट्य रचनाएं प्रदान की।
  • भरतमुनि ने नाट्यशास्त्र लिखा जो संपूर्ण विश्व में नाट्य कला के शास्त्रीय विवेचन को लेकर लिखा गया।
  • भवभूति के उत्तररामचरित और मालती माधव को अच्छे प्रसिद्धि मिली।
  • 10 वीं शताब्दी में नाट्यशास्त्र की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए धनंजय ने दशरूपक लिखा।
  • 11 वीं शताब्दी से 19वीं शताब्दी के अंत तक भारतीय नाट्य साहित्य की यात्रा में 1000 वर्ष का अंतराल है।

 

अधुनिक काल में नाटकों के अभाव का कारण

 

  • आधुनिक काल में भारतेंदु युग से पहले वृहत नाटक रचनाओं का अभाव सा रहा।
  • जयशंकर प्रसाद के अनुसार – ” मध्यकालीन भारत में यह जिस आतंक और अस्थिरता का साम्राज्य था। उसने यहां की सर्वसाधारण प्राचीन रंगशालाओं को तोड़ – फोड़ दिया।  मूर्तिवाद के विरुद्ध कई युद्ध भी हुए।
  • शुक्ल ने उपन्यास की और ध्यान से नाट्य लेखन में कमी माना।
  • श्यामसुंदर दास ,  गुलाब राय मुसलमानों द्वारा प्रोत्साहन ना मिलने के कारण नाटक साहित्य नहीं लिखा जा सका।

 

 

पहला नाटक कौन सा है

  • डॉ दशरथ ओझा संदेश रासक को पहला नाटक मानते हैं , किंतु यह रासो पद्धति पर आधारित है।
  • रामचंद्र शुक्ल ने आनंद रघुनंदन को हिंदी का पहला मौलिक नाटक माना। किंतु इसमें राम के राज्याभिषेक के अवसर पर अप्सराएं अंग्रेजी व अरबी गीत गाती है।
  • भारतेंदु ने नहुष को पहला हिंदी नाटक माना है। यह ब्रज भाषा में लिखा गया है।
यह भी पढ़ें –
नाटक
भारत दुर्दशा का रचना शिल्प
ध्रुवस्वामिनी राष्ट्रीय एवं सांस्कृतिक चेतना।
ध्रुवस्वामिनी की पात्र योजना
ध्रुवस्वामिनी नाटक का रचना शिल्प
त्रासदी नाटक क्या है

त्रासदी नाटक रंगमंच traasdi natak rangmanch

भारतीय नाट्य सिद्धांत bhartiya naatya siddhant

रूपक और उपरूपक में अंतर

 

हमे सोशल मीडिया पर फॉलो करें

facebook page

youtube channel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *