पारसी रंगमंच के तत्व | parsi rangmanch ke tatva

Hindi notes on parsi rangmanch ke tatva with full details. पारसी रंगमंच के तत्व parsi rangmanch ke tatva   बीसवीं शताब्दी के प्रारंभ में देश में एक नई रंगमंचिय कला पारसी थियेटर का विकास हुआ , किंतु अधिकांश विद्वान यह भी मानते हैं कि इस शैली का विकास शेक्शपीरियन थिएटर से प्रभावित होकर इंग्लैंड में … Read more

Parsi rangmanch | hindi rangmanch | पारसी रंगमंच

Hindi parsi rangmanch पारसी रंगमंच   अंग्रेजों के शासनकाल में भारत की राजधानी जब कोलकाता (1911) थी , वहां 1854 मे पहली बार अंग्रेजी नाटक मंचित हुआ। इससे प्रेरित होकर नव शिक्षित भारतीयों में अपना रंगमंच बनाने की इच्छा जागी।मंदिर में होने वाले – नृत्य , गीत , आदि आम आदमी के मनोरंजन के साधन थे। … Read more

वैदिक कालीन शिक्षा organization of education in vadic age

वैदिक कालीन शिक्षा hindi notes with full details. Read this post till end to get knowledge. वैदिक कालीन शिक्षा व्यवस्था organization of education in vedic age माना जाता है भारतीय वेद , उपनिषद , ब्राह्मण पुराण आदि जितने भी धार्मिक ग्रंथों की रचना हुई , वह वैदिक काल में ही हुई थी। वैदिक काल आधुनिक … Read more

Lesson plan in hindi | how to make lesson plan |

इस पोस्ट में आप सीखेंगे की लेसन प्लान  क्या होता है और इसे कैसे बनाते हैं | Lesson plan in hindi Lesson plan in hindi – how to make lesson plan   लेसन प्लान कैसे तैयार करें ? How to prepare lesson plan   कक्षा – १० B               … Read more

श्लेष अलंकार shlesh alankar with examples

श्लेष अलंकार की संपूर्ण जानकारी उदाहरण सहित | shlesh alankar hindi vyakran full notes with examples. श्लेष अलंकार shlesh alankar जिस प्रकार स्त्रियां अपने सौंदर्य के लिए शरीर पर आभूषण धारण करती है। उसी प्रकार काव्य की शोभा बढ़ाने के लिए साहित्य को , और मुखर , प्रभावी और सुंदर बनाने के लिए अलंकार का … Read more

प्राचीन नाटक के तत्व Praachin natak ke tatva

Hindi notes on प्राचीन नाटक के तत्व praachin natak ke tatva. If you want articles on other topics then comment below topics name. प्राचीन नाटक के तत्व Praachin natak ke tatva   प्राचीन भारतीय नाट्य शास्त्र में नाटक के चार तत्व को स्वीकार किया गया है। 1 वस्तु 2 नेता 3 रस 4 अभिनय   … Read more

शिक्षा का अर्थ एवं परिभाषा meaning and definition of education

शिक्षा का अर्थ एवं परिभाषा – Shiksha meaning and definition in hindi   शिक्षा का अर्थ एवं परिभाषा meaning and definition of education शिक्षा का अर्थ एवं परिभाषा देने के लिए विद्वानों ने अपने – अपने मत का प्रयोग किया है। शिक्षा को विद्वानों ने अपने विचारों द्वारा परिभाषित करने का प्रयत्न किया है। किन्तु … Read more

पूर्व भारतीय युगीन नाटक Purva bhartendu yugeen natak

पूर्व भारतीय युगीन नाटक – Purva bhartendu yugeen natak notes in hindi पूर्व भारतेन्दु युगीन नाटक ( Purva bhartendu yugeen natak )   भारतेंदु जी के नाटकों में कविता की प्रधानता प्राप्त है। भारतेंदु पूर्व के प्रायः सभी नाटक कविता से बोझिल थे। हम इन्हें काव्य नाटक कह सकते हैं। कुछ आलोचक इन्हें नाटक नहीं काव्य … Read more

यमक अलंकार yamak alankar ke bhed aur udahran

यमक अलंकार yamak alankar जिस प्रकार स्त्रियां अपने सौंदर्य के लिए शरीर पर आभूषण धारण करती है। उसी प्रकार काव्य की शोभा बढ़ाने के लिए साहित्य को , और मुखर , प्रभावी और सुंदर बनाने के लिए अलंकार का प्रयोग किया जाता है। अलंकार तीन प्रकार के हैं – 1 शब्दालंकार 2 अर्थालंकार 3 अभयालंकार। … Read more

भारतेंदु युग 1850-1900 Bhartendu Yug natak hindi notes

भारतेंदु युग ( 1850 – 1900 )  Bhartendu Yug Natak   भारतेंदु को हिंदी साहित्य के आधुनिक युग का प्रतिनिधि माना जाता है। माना जाता है कि आधुनिक हिंदी को नई दिशा प्रदान करने का श्रेय भारतेंदु को दिया जाता है। इस कारण उन्हें आधुनिक हिंदी नाटक का जनक भी माना जाता है। नाटकों को … Read more